Translate

Friday, June 3, 2011

गाओ-गुनगुनाओ


चाँद के चेहरे पे....

चाँद के चेहरे पे रात का डिठौना.
देखो जी, देखो जी,देखो, देखो न.

चौदह दिनों तक था आधा अधूरा,
पूनम के घर आया आज भरा-पूरा.
चाँदी की थाली में गोल-गोल सोना.
देखो जी, देखो जी, देखो,देखो न.

आएगी काली-कलूटी अमावस
ले जाएगी फिर चुराकर इसे बस
आँखों से दूर जा बसेगा सलोना.
देखो जी, देखो जी, देखो, देखो न.

chitra:courtesy:cofiboi.wordpress.com

1 comment: